विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 89

 [ " हे प्रिये , इस क्षण में मन ,ज्ञान , प्राण , रूप , सब को समाविष्ट होने दो . " ]

यह विधि थोड़ी कठिन है . लेकिन अगर तुम इसे प्रयोग कर सको तो यह विधि बहुत अद्भुत और सुंदर है . ध्यान में बैठो तो कोई विभाजन मत करो ; ध्यान में बैठे उए सब को-- तुम्हारे शरीर , तम्हारे मन , तुम्हारे प्राण , तुम्हारे विचार , तुम्हारे ज्ञान-- सब को समाविष्ट कर लो . सब को समेट लो , सब को सम्मिलित कर लो . कोई विभाजन मत करो , उन्हें खंडों में मत बांटों .
      सांस आती है और जाती है . विचार आता है और चला जाता है . शरीर का रूप बदलता रहता है . इस पर तुमने कभी ध्यान नहीं दिया है . अगर तुम आंखें बंद करके बैठो तो तुम्हें कभी लगेगा कि मेरा शरीर बहुत बड़ा है और कभी लगेगा कि मेरा शरीर बिलकुल छोटा है . कभी शरीर बहुत भारी मालूम पड़ता है और कभी इतना हलका कि तुम्हें लगेगा कि मैं उड़ सकता हूं . इस रूप के घटने-बढ़ने को तुम अनुभव कर सकते हो . आंखों को बंद कर लो और बैठ जाओ . और तुम अनुभव करोगे कभी शरीर बहुत बड़ा है , इतना बड़ा कि सारा कमरा भर जाए और कभी इतना छोटा लगेगा जैसे कि अणु हो . यह रूप क्यों बदलता है ? जैसे-जैसे तुम्हारा ध्यान बदलता है वैसे-वैसे तुम्हारे शरीर का रूप भी बदलता है . अगर तुम्हारा ध्यान सर्वग्राही है तो रूप बहुत बड़ा हो जाएगा . और अगर तुम तोड़ते हो , विभाजन करते हो , कहते हो कि मैं यह नहीं , यह नहीं , तो रूप बहुत छोटा , बहुत सूक्ष्म और आणविक हो जाता है .
     अपने अस्तित्व में सब को सम्मिलित करो , किसी को भी अलग मत करो , बाहर मत करो . मत कहो कहो कि मैं यह नहीं हूं ; कहो कि मैं यह हूं और सब को सम्मिलित कर लो . अगर तुम इतना ही कर सको तो तुम्हें बिलकुल नए अनुभव , अद्भुत अनुभव घटित होंगे . तुम्हें अनुभव होगा कि कोई केन्द्र नहीं है , मेरा कोई केन्द्र नहीं है . और केन्द्र के जाते ही अहंभाव नहीं रहता , अहंकार नहीं रहता . केन्द्र के जाते ही केवल चैतन्य रहता है-- आकाश जैसा चैतन्य जो सब को घेरे हुए है . और जब यह प्रतीति बढ़ती है तो तुममें न सिर्फ तुम्हारी सांस समाहित होगी , न केवल तुम्हारा रूप समाहित होगा , बल्कि अंततः तुममें सारा ब्रह्मांड समाहित हो जाएगा  .

Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112