विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 67

[ "यह जगत परिवर्तन का है , परिवर्तन ही परिवर्तन का . परिवर्तन के द्वारा परिवर्तन को विसर्जित करो ." ]

पहली बात तो यह समझने की है कि तुम जो भी जानते हो वह परिवर्तन है ; तुम्हारे अतिरिक्त , जानने वाले के अतिरिक्त सब कुछ परिवर्तन है . क्या तुमने कोई ऐसी चीज देखी है जो परिवर्तन न हो , जो परिवर्तन के अधीन न हो . यह सारा संसार परिवर्तन की घटना है .
    सब तरफ परिवर्तन है . यह परिवर्तन पृष्ठभूमि बन जाता है , कंट्रास्ट बन जाता है . और तुम शिथिल होते हो , विश्राम में होते हो , इसलिए तुम्हारे मन में भविष्य नहीं होता , भविष्य के विचार नहीं होते . तुम यहां और अभी होते हो ; यह क्षण ही सब कुछ होता है . सब कुछ बदल रहा है--और अचानक तुम्हें अपने भीतर उस बिंदु का बोध होता है जो कभी नहीं बदलता है .
   'परिवर्तन से परिवर्तन को विसर्जित करो .'
  इसका यही अर्थ है . लड़ो मत . मृत्यु के द्वारा अमृत को जान लो ; मृत्यु के द्वारा मृत्यु को मर जाने दो . उससे लड़ाई मत करो .
  तंत्र की दृष्टि को समझना कठिन है . कारण यह है कि हमारा मन कुछ करना चाहता है , और तंत्र है कुछ न करना . तंत्र कर्म नहीं , पूर्ण विश्राम है . लेकिन यह एक सर्वाधिक गूढ़ रहस्य है . और अगर तुम इसे समझ सको , और अगर तुम्हें इसकी प्रतीति हो जाए , तो तुम्हें किसी अन्य चीज की चिंता लेने की जरुरत न रही . यह अकेली विधि तुम्हें सब कुछ दे सकती है .
  तब तुम्हें कुछ करने की जरुरत न रही , क्योंकि तुमने इस रहस्य को जान लिया कि परिवर्तन से परिवर्तन का अतिक्रमण हो सकता है , मृत्यु से मृत्यु का अतिक्रमण हो सकता है , काम से काम का अतिक्रमण हो सकता है , क्रोध से क्रोध का अतिक्रमण हो सकता है . अब तुम्हें यह कुंजी मिल गई कि जहर से जहर का अतिक्रमण हो सकता है .

Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112