विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 68

[ "जैसे मुर्गी अपने बच्चों का पालन-पोषण करती है , वैसे ही यथार्थ में विशेष ज्ञान और विशेष कृत्य का पालन-पोषण करो ." ]

इस विधि में मूलभूत बात है : 'यथार्थ में ' . तुम भी बहुत चीजों का पालन-पोषण करते हो ; लेकिन सपने में , सत्य में नहीं . तुम भी बहुत कुछ करते हो ; लेकिन सपने में , सत्य में नहीं . सपनों को पोषण देना छोड़ दो ; सपनों को बढ़ने में सहयोग मत दो . सपनों को अपनी ऊर्जा मत दो . सभी सपनों से अपने को पृथक कर लो . इस क्षण में , वर्तमान में जीने कि चेष्टा करो . और आशाएं मत पालों --चाहे वे किसी भी ढंग की हों . वे लौकिक हो सकती हैं , पारलौकिक हो सकती हैं ; इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता है . वे धार्मिक हो सकती हैं , किसी भविष्य में , किसी दूसरे लोक में , स्वर्ग में , मृत्यु के बाद , निर्वाण में ; लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है . कोई आशा मत करो . यदि तुम्हें थोड़ी निराशा भी अनुभव हो , तो भी यहीं रहो . यहां से और इस क्षण से मत हटो . हटो ही मत . दुःख सह लो , लेकिन आशा को मत प्रवेश करने दो . आशा के द्वरा स्वप्न प्रवेश करते हैं . निराश रहो ; अगर जीवन में निराशा है तो निराश रहो . निराशा को स्वीकार करो ; लेकिन भविष्य में होने वाली किसी घटना का सहारा मत लो . और तब अचानक बदलाहट होगी . जब तुम वर्तमान में ठहर जाते हो तो सपने भी ठहर जाते हैं . तब वे नहीं उठ सकते , क्योंकि उनका स्रोत ही बंद हो गया .

Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112