विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 96

 [ " किसी ऐसे स्थान पर वास करो जो अंतहीन रूप से विस्तीर्ण हो . " ]     

किसी पहाड़ी पर चले जाओ जहां से तुम अंतहीन दूरी तक देख सको . यदि तुम अंतहीन रूप से देख सको , तुम्हारी दृष्टि कहीं रुके नहीं , तो अहंकार मिट जाता है . अहंकार के लिए सीमाओं की जरुरत होती है . सीमाएं जितनी सुनिश्चित हों , अहंकार के लिए उतना ही सरल हो जाता है .
     ' किसी ऐसे स्थान पर वास करो जो अंतहीन रूप से विस्तीर्ण हो , वृक्षों , पहाड़ियों , प्राणियों से रहित हो . तब मन के भारों का अंत हो जाता है . ' मन बहुत सूक्ष्म है . तुम एक पहाड़ी पर हो जहां और कोई नहीं है , लेकिन नीचे कहीं तुम्हें कोई झोपड़ी दिखाई दे जाए तो तुम उस झोपड़ी से बातें करने लगोगे , उससे संबंध जोड़ लोगे-- समाज आ गया . तुम नहीं जानते कि वहां कौन रहता है , लेकिन कोई रहता है , और वही सीमा बन जाती है . तुम सोचने लगोगे कि कौन वहां रहता है . रोज तुम्हारी नज़रें उसे खोजने लगेंगी . झोपड़ी मनुष्यता की प्रतीक बन जाएगी .
    तो वृक्ष भी न हों , क्योंकि जो लोग अकेले होते हैं वे वृक्षों से बोलना शुरू कर देते हैं , उनसे मित्रता कर लेते हैं , बात-चीत करने लगते हैं . तुम उस व्यक्ति की कठिनाई को नहीं समझ सकते जो अकेला होने के लिए चला गया है . वह चाहता है कि कोई उसके पास हो . तो वह वृक्षों को ही नमस्ते और आप कैसे हैं कहना शुरू कर देगा ..और वृक्ष भी प्राणी हैं . यदि तुम ईमानदार हो तो वे भी जवाब देना शुरूकर देंगे , वहां प्रतिसंवेदन होगा . तो तुम समाज खड़ा कर सकते हो . कुछ समय के लिए थोड़ा अलग हट जाओ ,ताकि एक दूरी से देख सको कि तुम क्या हो और समाज तुम्हारे साथ क्या कर रहा है . समाज से बाहर होकर तुम बेहतर ढंग से देख सकते हो . तुम दृष्टा हो सकते हो . समाज से बिना जुड़े , बिना उसमें हुए , तुम पर्वत शिखर पर बैठे एक दृष्टा , एक साक्षी हो सकते हो . तुम इतनी दूर हो--बिना विचलित हुए , पक्षपात-रहित तुम देख सकते हो

Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112