विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 10

( " प्रिय देवी , प्रेम किये जाने के क्षण में प्रेम में ऐसे प्रवेश करो जैसे कि वह नित्य जीवन हो ." )

 तुम्हारे शिथिल होने के अनुभव में प्रेम का अनुभव निकटतम है . अगर तुम प्रेम नहीं कर सकते हो तो तुम शिथिल  भी नहीं हो सकते हो . और अगर तुम शिथिल हो सके तो तुम्हारा जीवन प्रेमपूर्ण हो जायेगा .

 एक तनाव ग्रस्त आदमी प्रेम नहीं कर सकता है . क्यों ? क्योंकि तनावग्रस्त आदमी सदा उद्देश्य से , प्रयोजन से जीता है . वह धन कमा सकता है , लेकिन प्रेम नहीं कर सकता . क्योंकि प्रेम प्रयोजन-रहित है . प्रेम कोई वस्तु नहीं है . तुम उसे संग्रहीत नहीं कर सकते , तुम उसे बैंक-खाते में नहीं रख सकते हो . तुम उससे अपने अहंकार की पुष्टि नहीं कर सकते हो . सच तो यह है कि प्रेम सबसे अर्थहीन काम है ; उससे आगे उसका कोई अर्थ नहीं है , उससे आगे उसका कोई प्रयोजन नहीं है . प्रेम अपने आप में जीता है , किसी अन्य चीज के लिए नहीं .

 शिव प्रेम से शुरू करते हैं :  " प्रिय देवी , प्रेम किये जाने के क्षण में प्रेम में ऐसे प्रवेश करो जैसे कि वह नित्य जीवन हो ."

 इसका क्या अर्थ है ? कई चीजें . एक , जब तुम्हें प्रेम किया जाता है तो अतीत समाप्त हो जाता है और भविष्य नहीं है . तुम वर्तमान के आयाम में गति कर जाते हो , तुम अब में प्रवेश कर जाते हो . क्या तुमने कभी किसी को प्रेम किया है ? यदि कभी किया है तो जानते हो कि उस क्षण में मन नहीं होता है .

 यही कारण है कि तथाकथित बुद्धिमान कहते हैं कि प्रेमी अंधे होते हैं , मनःशून्य और पागल होते हैं . वस्तुतः वे सच कहते हैं . प्रेमी इस अर्थ में अंधे होते हैं कि भविष्य परअपने किया का हिसाब रखने वाली आँख उनके पास नहीं होती है . वे अन्धें हैं , क्योंकि वे अतीत को नहीं देख पाते . प्रेमियों को क्या हो जाता है ?
 वे 'अभी' और 'यहीं' में सरक आते हैं , अतीत और भविष्य कि चिंता नहीं करते , क्या होगा इसकी चिंता नहीं लेते . इस कारण वे अंधे कहे जाते हैं . वे हैं . जो गणित करते हैं उनके लिए वे अन्धें है , और जो गणित नहीं करते उनके लिए आँख वाले हैं . जो हिसाबी नहीं हैं वे देख लेंगे कि प्रेम ही असली आँख है , वास्तविक दृष्टि है .

 इसलिए पहली चीज कि प्रेम के क्षण में अतीत ओर भविष्य नहीं होते हैं . तब एक नाज़ुक बिंदु समझने जैसा है . जब अतीत और भविष्य नहीं रहते तब क्या तुम इस क्षण को वर्तमान कह सकते हो ? यह वर्तमान है दो के बीच , अतीत और भविष्य के बीच ; यह सापेक्ष है . अगर अतीत और भविष्य नहीं रहे तो इसे वर्तमान कहने में क्या तुक है ! वह अर्थहीन है . इसीलिए शिव वर्तमान शब्द का व्यवहार नहीं करते ; वे कहते हैं , नित्य जीवन . उनका मतलब शाश्वत से है-- शाश्वत में प्रवेश करो .

Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112

DOWNLOAD VIGYAN BHAIRAV TANTRA ANDROID APP
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.sandeepkumarchaudhary1980.Vigyan_Bhairav_Tantra