विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 63

["जहां कहीं तुम्हारा मन भटकता है , भीतर या बाहर , उसी स्थान पर , यह ."]

जब तुम्हारा मन भटकता है तो दो चीजें होती हैं . एक तो बादल हैं , विचार हैं , विषय हैं , बिंब हैं ; और दूसरी चेतना है , खुद मन . जब तुम बादलों पर , विचारों पर , बिंबों पर बहुत ध्यान देते हो तो तुम आकाश को भूल गए . तब तुम मेजबान को भूल गए और मेहमान में ही बुरी तरह उलझ गए . वे विचार , वे बिंब , जो भटक रहे हैं ; केवल मेहमान हैं . अगर  तुम मेहमानों पर सब ध्यान लगा देते हो तो तुम अपनी आत्मा ही भूल बैठे . अपने ध्यान को मेहमानों से हटाकर मेजबान पर लगाओ ; बादलों से हटाकर आकाश पर केंद्रित करो . और इसे व्यावहारिक ढंग से करो . कामवासना उठती है ; यह बादल है . या बड़ा घर पाने का लोभ पैदा होता है ; यह भी बादल है . तुम इससे इतने ग्रस्त हो जा सकते हो कि तुम भूल ही जाओ कि यह किस में उठ रहा है , यह किस को घटित हो रहा है , कौन इसके पीछे है , किस आकाश में यह बादल उठ रहा है . उस आकाश को स्मरण करो ; और अचानक बादल विदा हो जाएगा . सिर्फ दृष्टि बदलने की जरुरत है ; परिप्रेक्ष्य बदलने की जरुरत है . दृष्टि को विषय से विषयी पर , बाहर से भीतर पर , बादल से आकाश पर , अतिथि से आतिथेय पर ले जाने की जरुरत है . सिर्फ दृष्टि को बदलना है , फोकस बदलना है .

Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112