विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 42

["किसी ध्वनि का उच्चार ऐसे करो कि वह सुनाई दे ; फिर उस उच्चार को मंद से मन्दतर किये जाओ -- जैसे-जैसे भाव मौन लयबद्धता में लीन होता जाए ."]

किसी भी ध्वनि से काम चलेगा . अपनी ध्वनि खोज लो . और जब तुम उसका उच्चार करोगे तो तुम्हें पता चलेगा कि उसके साथ तुम्हारा संबंध प्रेमपूर्ण है अथवा नहीं . प्रेमपूर्ण संबंध होगा तो तुम्हारा हृदय उसके साथ तरंगायित होने लगेगा . प्रेमपूर्ण संबंध होगा तो तुम्हारा शरीर ज्यादा संवेदनशील होने लगेगा . तुम्हें लगेगा जैसे कि मैं प्रेमिका की गोद जैसी उष्ण व सुखद जगह में बैठा हूं . एक उष्णता तुम्हें घेरने लगेगी . तुम्हें यह अनुभव न केवल मानसिक तल पर होगा , बल्कि शारीरिक तल पर भी होगा . अगर तुम किसी ऐसी ध्वनि का उच्चार करोगे जो तुम्हें प्रीतिकर है तो तुम्हें अपने भीतर और बाहर , चारों तरफ एक ऊष्मा का , सुख का अनुभव होगा . तब यह संसार एक कठोर संसार नहीं रह जाएगा , एक हृदयपूर्ण संसार होगा .
       ध्वनि को निरंत घटाते जाओ . उच्चार को इतना धीमा करो कि तुम्हें भी उसे सुनने के लिए प्रयत्न करना पड़े . ध्वनि को कम करते जाओ , कम करते जाओ-- और तुम्हें फर्क मालूम होगा . ध्वनि जितनी धीमी होगी , तुम उतने ही भाव से भरोगे . और जब ध्वनि विलीन होती है तो भाव ही शेष रहता है . इस भाव को नाम नहीं दिया जा सकता ; वह प्रेम है , प्रगाढ़ प्रेम है . लेकिन यह प्रेम किसी व्यक्ति विशेष के प्रति नहीं है . यही फर्क है .

Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112