विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 33

["बादलों के पार नीलाकाश को देखने मात्र से शान्ति को , सौम्यता को उपलब्ध होओ ."]

इस सूत्र में विचारणा नहीं देखना बुनियादी है . आकाश असीम है ; उसका कहीं अंत नहीं है . उसे महज देखो . वहां कोई विषय-वस्तु नहीं है . यही कारण है कि आकाश चुना गया है . आकाश कोई विषय नहीं है . भाषागत रूप से वह विषय है ; लेकिन अस्तित्व में वह कोई विषय नहीं है . विषय वह है जिसका आरम्भ और अंत हो . तुम किसी विषय के चारों ओर घूम सकते हो ; लेकिन आकाश की परिक्रमा नहीं कर सकते . तुम आकाश में ही हो , लेकिन तुम आकाश के चारों तरफ नहीं घूम सकते . तुम आकाश के विषय बन सकते हो ; लेकिन आकाश तुम्हारा विषय नहीं बन सकता . आकाश में तो तुम झाँक सकते हो ; लेकिन आकाश पर नहीं झाँक सकते . और आकाश में झांकना अनंतकाल तक चल सकता है ; उसका कोई अंत नहीं है ; उसकी कोई सीमा नहीं है . और उसके संबंध में सोच-विचार मत करो . मत कहो कि यह कितना सुंदर है . मत कहो कि यह कितना मोहक है . उसके रंगों की प्रशंसा मत करो . उससे सोचना शुरू हो जाएगा. और सोचना शुरू करते ही देखना बंद हो जाता है ; अब तुम्हारी आंखें अनंत आकाश में गति नहीं कर रहीं . इसलिए सिर्फ देखो . अनंत आकाश में गति करो . विचार मत करो ; शब्द मत बनाओ . शब्द बाधा बन जाते हैं . इतना भी मत कहो कि यह नीलाकाश है . इसे शब्द ही नहीं दो . इसे नीलाकाश का महज दर्शन रहने दो--निर्दोष दर्शन . उसे देखो , उसमें प्रवेश करो , उसमें गहरे डूबो . लेकिन याद रहे , यह दखना निर्विचार देखना हो . तब तुम अपने अंतस में उसी आकाश को अनुभव करोगे , उसी आयाम को अनुभव करोगे . तब वही विराट , वही नीलिमा , वही शून्य तुम्हारे भीतर होगा .........


Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112