विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 23

[ " अपने सामने किसी विषय को अनुभव करो . इस एक को छोड़कर अन्य सभी विषयों की अनुपस्थिति को अनुभव करो . फिर विषय-भाव और अनुपस्थिति-भाव को भी छोड़कर आत्मोपलब्ध होओ ."]

कोई भी विषय , उदाहरण के लिए एक गुलाब का फूल है -- कोई भी चीज चलेगी . देखने से काम नहीं चलेगा , अनुभव करना है . तुम गुलाब के फूल को देखते हो , लेकिन उससे तुम्हारा हृदय आंदोलित नहीं होता है . तब तुम गुलाब को अनुभव नहीं करते हो . अन्यथा तुम रोते और चीखते , अन्यथा तुम हंसते और नाचते .  तुम गुलाब को महसूस नहीं कर रहे हो , सिर्फ गुलाब को देख रहे हो . गुलाब के फूल के साथ रहो . उसे देखो और फिर उसे महसूस करो , उसे अनुभव करो . अनुभव करने के लिए क्या करना है ? उसे स्पर्श करो , उसे सूंघो ; उसे गहरा शारीरिक अनुभव बनने दो . पहले अपनी आँखों को बंद करो और गुलाब को अपने पूरे चेहरे को छूने दो . इस स्पर्श को महसूस करो . फिर गुलाब को आंख से स्पर्श करो . फिर गुलाब को नाक से सूघों . फिर गुलाब के पास हृदय को ले जाओ और उसके साथ मौन हो जाओ . गुलाब को अपना भाव अर्पित करो . सब कुछ भूल जाओ . सारी दुनियां को भूल जाओ . और ऐसे गुलाब के साथ समग्रतः रहो . यदि तुम्हारा मन अन्य चीजों के संबंध में सोच रहा है तो गुलाब का अनुभव गहरा नहीं जायेगा . सभी अन्य गुलाबों को भूल जाओ . सभी अन्य लोगों को भूल जाओ . सब कुछ को भूल जाओ . केवल इस गुलाब को रहने दो . यही गुलाब , हां यही गुलाब . सब कुछ को भूल जाओ और इस गुलाब को तुम्हें आच्छादित कर लेने दो . समझो कि तुम इस गुलाब में डूब गए हो .

Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112