Showing posts with label Vigyan Bhairav Tantra. Show all posts
Showing posts with label Vigyan Bhairav Tantra. Show all posts

विज्ञान भैरव तंत्र - ओशो

                                                   भूमिका  ``तंत्र विज्ञान है; तंत्र दर्शन नहीं  है. दर्शन को समझना आसान है; क्यूंकि ...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 01

( " हे देवी , यह अनुभव दो श्वासों के बीच घटित हो सकता है. श्वास के भीतर आने के पश्चात् और बाहर लौटने के ठीक पूर्व -- श्रेयस है, कल...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 02

( " या जब कभी अन्तः श्वास और बहिर्श्वांस एक दूसरे में विलीन होती हैं , उस क्षण में ऊर्जारहित , ऊर्जापूरित  केन्द्र को स्पर्श करो . ...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 03

( " जब श्वास नीचे से ऊपर की ओर मुड़ती है , और फिर जब श्वास ऊपर से नीचे की ओर मुड़ती है -- इन दो मोड़ों के द्वारा उपलब्ध हो . " ) ...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 04

(" या जब श्वास पूरी तरह बाहर गई है और स्वतः ठहरी है , या पूरी तरह भीतर आई है और ठहरी है -- ऐसे जागतिक विराम के क्षण में व्यक्ति का ...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 05

(" भृकुटियों के बीच अवधान को स्थिर कर विचार को मन के सामने करो. फिर सहस्रार तक रूप को प्राण-तत्व से, प्राण से भरने दो. वहां वह प्रक...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 06

(" ललाट के मध्य में सूक्ष्म श्वास (प्राण) को टिकाओ . जब वह सोने के क्षण में हृदय  तक पहुंचेगा तब स्वप्न और स्वयं मृत्यु पर अधिकार ह...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 07

(" ललाट के मध्य में सूक्ष्म श्वास (प्राण) को टिकाओ . जब वह सोने के क्षण में हृदय  तक पहुंचेगा तब स्वप्न और स्वयं मृत्यु पर अधिकार ह...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 08

(" आत्यंतिक भक्तिपूर्वक श्वास के दो संधि-स्थलों पर केंद्रित होकर ज्ञाता को जान लो .") इन विधियों के बीच जरा-जरा भेद है , जर...
Read More

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 09

(" मृतवत लेट रहो . क्रोध से क्षुब्ध होकर उसमें ठहरे रहो . या पुतलियों को घुमाए बिना एकटक घूरते रहो . या कुछ चूसो और चूसना बन जाओ .&...
Read More