Showing posts with label Sadhako Ke Patra. Show all posts
Showing posts with label Sadhako Ke Patra. Show all posts

सूफीमत एवं इस्लामिक दर्शन

           सूफीमत इस्लामिक दर्शन का उदारवादी उत्तर स्वरूप है | यह इस्लाम की कुरान की कट्टरपंथी मान्यताओं के विरोध में अरब में ही प्रवर्ति...
Read More

मिथक क्या है ?

           मिथक मानव जाति का सामूहिक स्वप्न एवम् सामूहिक अनुभव है | मिथक प्रागेतिहासिक घटना या आस्था है जब कि स्वप्न एक प्रतीकात्मक इच्छ...
Read More

श्री अरविन्द के दर्शन के कुछ पहलू

श्री अरविन्द के दर्शन पर विचार करने से पहले हम परम तत्व को समझाने का प्रयत्न करेंगे..  क्यों कि यह उनके दर्शन का केन्द्रीय विषय वस्तु है ...
Read More

"ईश्वरीय कण" कितना ईश्वरीय

                              "ईश्वरीय" कण कितना ईश्वरीय .यह प्रश्न अब हरएक व्यक्ति के मस्तिष्क में उठ रहा है कि 'गॉड पार...
Read More

वाणी और उसके प्रकार

            वाणी चार प्रकार कि होती है यथा --परा, पश्यंती,मध्यमा और वैखरी.परा वाणी अश्रव्नीय, अननुमेय,अप्रतर्क्य तथा अदृश्य है.यह वा...
Read More

मुक्ति और उसके साधन

                  हमारे जीवन में धर्म,अर्थ,काम और मोक्ष नामक ये चार पुर्षार्थ आध्यात्मिक मूल्य रखते हैं. मोक्ष इनमे परम पुरुषार्थ माना  ...
Read More